CBI विवाद में कांग्रेस पार्टी समेत कई विपक्षी पार्टियों का देशभर में प्रदर्शन

0
14

CBI में चल रहे विवाद पर आज कांग्रेस और कुछ विपक्षी पार्टियां देशभर में CBI कार्यालयों के सामने धरना दे रहे है । कांग्रेस पार्टी ने CBI में चल रहे विवाद की सीधा राफेल डील से जोड़ा है और देश के सभी CBI कार्यालयों के सामने प्रदर्शन कर रहे है। दिल्ली में प्रदर्शन की बागडोर स्वयं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने थामा है। राहुल गांधी समेत कई नेताओं को गिरफ्तार कर लोधी पुलिस स्टेशन ले जाया गया। बाद में उन्हें छोड़ दिया गया है।

सीबीआई विवाद में कांग्रेस पार्टी समेत कई विपक्षी पार्टियों का देशभर में प्रदर्शन
सीबीआई विवाद में कांग्रेस पार्टी समेत कई विपक्षी पार्टियों का देशभर में प्रदर्शन

 

CBI मामले में मोदी पर लगाया सीधा आरोप

राहुल गांधी ने नरेंद्र मोदी पर सीधा आरोप लगाया है कि राफेल डील में भ्रष्टाचार हुआ है और ये सरकार मुकेश अंबानी को फायदा पंहुचा रही है । राहुल गांधी ने कहा कि CBI के दफ्तर में 2 बजे छापा पड़ना और CBI के दो अधिकारियों की छुट्टी करना कही न कही मोदी राफेल सौदे की जांच से बचना चाहते है। राहुल गांधी ने CBI के डायरेक्टर आलोक वर्मा की बहाली की मांग करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस मुद्दे पर माफी मांगने को कहा।

सीबीआई विवाद में प्रदर्शन करते राहुल
सीबीआई विवाद में प्रदर्शन करते राहुल

CBI दफ्तर की तरफ जाने वाले रास्ते को पुलिस ने बंद कर दिया

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस ने दयाल सिंह कॉलेज से धरना प्रदर्शन शुरू किया। CBI दफ्तर की तरफ जाने वाले रास्ते को पुलिस ने बंद कर दिया था। राहुल गांधी के साथ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत, आनंद शर्मा, अहमद पटेल, दीपेंदर हुड्डा के अलावा टीएमसी सांसद हक, शरद यादव और सीपीआई नेता डी राजा भी मार्च में शामिल हुए।

आलोक वर्मा की अपील पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

जांच एजेंसी के पूर्व निदेशक आलोक वर्मा और मुख्य निदेशक राकेश अस्थाना को छुट्टी पर भेजा दिया गया था । आलोक वर्मा की अपील पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। केंद्र सरकार की तरफ से अटॉर्नी जनरल वेदुगोपाल राव तथा अलोक वर्मा की तरफ से तुषार मेहता ने पक्ष रखा। दोनों पक्षों को सुनने के बाद चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की बेंच ने कहा- सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज की निगरानी में सीवीसी ये जांच 14 दिन में पूरी करे। 12 नवंबर को अगली सुनवाई के वक्त सीलबंद लिफाफे में रिपोर्ट यहां पेश की जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here